top of page

किसान आंदोलन का नया रूप

किसान आंदोलन के नए रूप,

रोज अलग-अलग दिखते हैं।

अभी क्या क्यों कैसे कर देंगे,

रोज नया कुछ करते हैं।

मोदी से सिर्फ अदावत है,

पर विदेशों में नाम खराब किया।

भारत की बदनामी के लिए,

अंतरराष्ट्रीय दुष्प्रचार किया।

विदेशियों से ट्वीट करा कर ,

समर्थन उनसे हासिल करवा कर,

सोच रहे बड़ा काम किया।

देश तो उनका भी था,

सरकार तो उनकी भी थी।

फिर क्यों देश को बदनाम किया।

जो ना जानते थे,

क्या कानून है?

ना जानते क्या सच्चाई है?

कैसे बीच में आ जाते ?

twitter पर पोस्ट कर आई है।

किसान आंदोलन का,

कौन सा चेहरा बाकी है।

रोज अलग ही दिखता है,

अब और क्या होना बाकी है।

पूछती हूं उन देशद्रोहियों से,

बाहर वालों का क्या काम।

अपना झगड़ा खुद ही संभालो,

क्यों लेते हो उनसे काम।

देश की साख कुछ नहीं तुम्हें,

चाहे खाक मिले तो मिले।

तुम्हें बदनामी मोदी की चाहिए,

देश की गरिमा मिटे तो मिटे।

कैसे तुम निर्लज्ज हो तुम को,

जरा लाज नहीं आती।

अपने देश की ही इज्जत,

कैसे तार-तार करी जाती।

क्या अपने घर की लड़ाई,

तुम बाहर ले जाओगे।

तो फिर क्यों ना देश में रहकर,

देशद्रोही कहलाओगे।

0 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें
bottom of page