top of page

मुझे कुछ कहना है


कभी मिलो तो सही,

क्या बात है जो खफा हो?

बताओ तो सही।

तुम्हारी नाराजगी में हम क्या से क्या हो गए?

फूल थे खिलते हुए,पतझड़ से अब हो गए।

जब देखोगे हमारी हालत,कुछ कहोगे तो सही।

मुझे कुछ कहना है,कभी मिलो तो सही।


याद करोगे तो पता चलेगा,

तुम्हें आदत है,सब भूल जाने की।

याद तो रखते नहीं,भूले हो तुम जमाने की,

क्या थे क्या हो गए?

जब देखोगे हमारी हालत,कुछ कहोगे तो सही।

मुझे कुछ कहना है,कभी मिलो तो सही।


ना तुम्हें याद वह रस्में,ना कसमे,ना वादे।

प्यार ना रुसवाई,मोहब्बत ना जुदाई।

जब सोचोगे तो,

वजह देखोगे, सब झूठ है, या सही।

मुझे कुछ कहना है, कभी मिलो तो सही।


यह प्यार भी ना बड़ी कमबख्त चीज है।

दर्द बहुत देता है, खुशी नाचीज है।

रोते हैं सब जब दिल लगाते हैं जब तक।

जब देखोगे हमारी हालत,कुछ कहोगे तो सही।

मुझे कुछ कहना है,कभी मिलो तो सही।


9 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

फांसले

bottom of page